भारत के वरिष्ठ तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार क्रिकेट से ६ महीने के लिए बाहर हो गए हैं । उन्हें आईपीएल २०२० में जांघ में खिचांव के कारण बीच में ही भारत वापस आना पड़ा और इसी कारण वह ऑस्ट्रेलिया के दौरे से भी बाहर हो गए। उम्मीद है कि भुवनेश्वर इंडियन प्रीमियर लीग के 2021 संस्करण में अपनी वापसी करने की संभावना है, जो अप्रैल की शुरुआत में शुरू होने की संभावना है।

भुवनेश्वर वर्तमान में बैंगलोर में अपनी पुनर्वास प्रक्रिया राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) से गुजर रहा है। भुवनेश्वर अगले महीने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी टी 20 टूर्नामेंट के लिए उत्तर प्रदेश टीम में भी जगह नहीं बना पाएंगे। स्पोर्ट्स फिजियोथेरेपिस्ट हीथ मैथ्यूज, जो मुंबई इंडियन्स से जुड़े हैं, ने कहा कि भुवनेश्वर को वह चोटें लग रही हैं, जो सामानतय एक तेज़ गेंदबाज़ जो लगती ही हैं ।

भुवनेश्वर, जिन्हें नई गेंद के साथ भारत का सर्वश्रेष्ठ माना जाता है, विशेष रूप से व्हाइट-बॉल प्रारूपों में, पिछले दो वर्षों से चोटों से काफी जूझ रहे हैं। उन्हें साइड स्ट्रेन, हैमस्ट्रिंग, कूल्हे, जांघ और पीठ सब चोटों से उलझना पड़ा है। 2019 में इंग्लैंड में 50 ओवर के विश्व कप के दौरान, भुवनेश्वर को पाकिस्तान के खिलाफ मैच के दौरान हैमस्ट्रिंग की चोट का सामना करना पड़ा और फिर से काफी मैच मिस किये।

भुवनेश्वर को लगी चोटों की संख्या में वृद्धि हुई है, खासतौर पर आउट-ऑफ-स्विंग स्विंग गेंदबाज ने अपनी गति बढ़ाने की कोशिश की है। उन्होंने पहले स्वीकार किया था कि किस तरह उनकी गेंदबाजी में तेजी लाने के प्रयास से गेंद को नियंत्रित करने में परेशानी हुई आदि।